Friendship

Poetries

Nothing Found

Status quotes

small judge gavel placed on table near folders

दहेज प्रथा पाप है

BY SHREYA SHUKLA कितने अरमानों से ढूँढता है वो बेटी को नया आशियानाफिर क्यों उस आशियाने के लिए चुकाना पड़ता है उसे इतना बड़ा कर्ज़ानाक्या खुश नहीं एक बेटी लेकरजो सफ़ारी की उम्मीद सजाए बैठे होक्या इतना स…
Read More
please keep your distance inscription on sign during coronavirus pandemic

स्त्री और पुरूष एक ही सिक्के के दो पहलू हैं?

By Shreya Shukla स्त्री और पुरुष एक ही सिक्के के दो पहलू हैं, जिनके विकास की बात एक के बिना करना मिथ्या सिद्ध होगा|लेकिन सवाल यह उठता है कि यदि ज़िन्दगी के दोनों पहियों को बराबर लाने के लिए कोई कदम…
Read More
woman in yellow dress standing on pink petaled flower field

क्या अभी भी तुम सामाजिक पिंजड़े में कैद हो

BY SHREYA SHUKLA क्या किया है कभी तुमने खुद से प्यार ,या फ़िर तुम भी किसी प्यसि के प्यार में विलीन हो ? क्या खोलकर उन पंखों को कभी भरी है वो उड़ान तुमने , या फ़िर तुम अभी भी उस…
Read More

Whatsapp

Nothing Found