कोरोना: गंभीर बीमारी या व्यक्तिगत लाभ?

By | July 9, 2021

BY SHREYA SHUKLA

कोरोना क्या है? क्या कोरोना भी एक व्यापार है, जिससे मात्र एक वर्ग ही प्रभावित होता है? हास्यास्पद हुआ जब पता चला कि कोरोनावायरस एक ऐसी बीमारी है, जिसके सिम्टम्स अमीरों को माइल्ड, और गरीबों को गंभीर होते हैं|

एक ऐसा वायरस है, जो मात्र आम जनता के द्वारा ही फैलता है|सवाल उठता है कि क्या कोरोना मात्र आम जनता के लिए ही जानलेवा है? क्या होलिका दहन में 20 लोग इकठ्ठा होने से ही कोरोना का संक्रमण समाप्त हगा?क्या हमारा घर हमारी होली से ही कोरोना से हम बच सकते हैं? क्या राजनेताओं द्वारा निकाली जा रही रैली, कलश यात्राओं से, कोरोना प्राभावित नहीं होता? क्या करोना वायरस भी अब बिक चुका है, जिसका खतरा मात्र आम जनता पर ही मंडराता है?

17 नवंबर 2019 को कोरोना ने दस्तक़ दी, 22 मार्च 2020 तक कोरोनावायरस भारत में अपने पैर पसार चुका था। लॉकडाऊन की स्थिति उत्पन्न होने लगी थी| विडंबना यह है कि जब कोरोना के केसेस 1000 आ रहे थे तब देशभर में हू-हल्ला फैला हुआ था| कुछ बिकाऊ चैनल भी उन 1000 केस को बड़े ही सजगता के साथ दिखा रहे थे| लेकिन जब आंकड़ा 1000 से 10000, 10000 से 100000 पहुंचा तब खबर के बाद मात्र एक चार्ट प्रदर्शित होता हुआ दिखाई दिया।

कोरोना को सभी अपने अपने तरीके से ले रहे हैं| राजनेताओं के लिए वोटबैंक, विद्यार्थियों के लिए फोन चलाने या परीक्षाओं से बचने का माध्यम, व्यापारी वर्ग के लिए लोगों से वसूली करना! आजकल हर बहाना कोरोना से ही शुरू होते हुए जाता है।लेकिन सही मायने में इस महामारी की गंभीरता को कोई समझ ही नहीं पा रहा है|

पहली एवं दूसरी लहर

कोरोना की पहली लहर जब आई थी तो लाखों लोगों की जान गई थी | लेकिन फिर भी लोगों के सावधानी न बरतने का कारण बनीं दूसरी लहर! और यह पहली से भी ज़्यादा भयावह निकली। दूसरी लहर की चपेट में लगभग देश का प्रत्येक परिवार आया। जिसने युवाओं को सबसे ज़्यादा प्रभावित किया, लेकिन फिर भी जैसे ही आंकड़ों में ज़रा सी गिरावट आई, लोगों ने एहतियात बरतना छोड़ दिया।

तीसरी लहर

लेकिन अब अनुमानित आंकड़ों के अनुसार तीसरी लहर आने को है, जो पिछली दो लहरों से ज़्यादा विषाणु होगी।इसलिए हमें समझना होगा कि हमारे व्यक्तिगत लाभ से परे सामाजिक लाभ है, क्योंकि यदि हम एहतियात नहीं बरतेंगे तो हमसे और लोगों को भी कोरोना होने की संभावनाएं हैं|

अपील

अपने घर में रहें सावधान रहें सुरक्षित रहें ,घर से बाहर जाते समय मास्क एवं सैनिटाइजर का निरंतर उपयोग करें, अनावश्यक जगहों पर ना जाएं, एवंअनावश्यक चीजों को न छुएं। एवं वैक्सीन अवश्य लगवाएं।

यह भी पढ़ें

*यदि हम थर्ड जेंडर है तो फ़र्स्ट कौन?*
Flowers: The symbol of true friendship

One thought on “कोरोना: गंभीर बीमारी या व्यक्तिगत लाभ?

Leave a Reply

Your email address will not be published.